इंटेलीजेंट कैसे बने? ( How to become intelligent)

0
(0)

इंटेलीजेंट कैसे बने( How to become intelligent) – हर इनसान diffrent leval के साथ पैदा होता है, जहां कई लोग काफी इंटेलिजेंट और मेंटली शार्प होते हैं वहीं दूसरे लोग उनके कंपैरिजन में थोड़े dull होते हैं और जनरली एक प्रॉब्लम को सॉल्व करने में ज्यादा समय लेते हैं। हलाकि इसका मतलब ये नहीं है कि हम अपनी इंटेलिजेंस को बड़ा नहीं सकते। हमारे दिमाग के जो हिस्से learning, memory, कम्प्यूटिंग और cognitive functioning के लिए यूज होते हैं, उन्हें समय और प्रैक्टिस के साथ बदला जा सकता है।

इसके साथ ही हमारा गोल कभी भी सिर्फ अपने IQ को इन्क्रीज करना नहीं होना चाहिए, क्योंकि ज्यादातर कंप्यूटेशनल टास्क तो हमारे लिए हमारे मोबाइल्स और कंप्यूटर भी कर सकते हैं। IQ से भी बेहतर और ज्यादा यूजफुल होती है practical  इंटेलिजेंस। यही तो वजह है कि कई लोग जो बात इंटेलीजेंट  करते हैं और उन्हें देखकर ऐसा लगता है कि वो चलती फिरती लाइब्रेरी है वो कई बार बहुत कोशिश करने के बाद भी कभी सक्सेसफुल नहीं बन पाते। जबकि कई बार काफी सिम्पल माइंडेड लोग जो ज्यादा इंटेलीजेंट नहीं लगते वो बहुत जल्दी और बहुत असानी से सक्सेस की सीढ़ी पर चढ़ जाते हैं।

अमेरिकन psychological असोसिएशन में हुई एक स्टडी भी यही बताती है कि करियर सक्सेस का एक बेटर प्रोटेक्टर प्रैक्टिकल इंटेलिजेंस होता है न कि IQ. आपका IQ आपकी सक्सेस में बस 20 परसेंट ही कॉन्ट्रिब्यूशन देता है और इमोशनल इंटेलिजेंस, वर्बल इंटेलिजेंस, ability to under work, under pressure या फिर क्रियेटिव एबिलिटी जैसी skills IQ से ज्यादा इम्पोर्टेन्ट होती है।

इसलिए इसी इनसाइट को मन में रखकर हम इस article  इंटेलीजेंट कैसे बने( How to become intelligent) मे एक्जेक्टली उन 3 तरीको के बारे में बात करेंगे जो आपको 10 गुना ज्यादा इंटेलिजेंट बना सकते हैं।

Intelligent kaise bane, thinker, indian boy

इंटेलीजेंट कैसे बने ( How to become intelligent)

1. Be more open minded

अपनी बुक Beyond IQ मैं साइकोलॉजिस्ट Garth sundum बताते हैं कि नई साइट्स को वेलकम और मुश्किल प्रॉब्लम को जल्दी से सॉल्व करने के लिए हमें openness की जरूरत होती है। ऐसा ही बहुत ही रेयर इनसान होता है जो ट्रेडिशनल खयाल रखता है, लेकिन नए ideas के लिए भी ओपन रहता है। साइंस के हिसाब से ये मेंटल position optimal  होती है लेटरली सोचने यानी दो unrealted दिखने वाली चीजों में भी कोई commanality पकड़ने के लिए और ज्यादा क्रिएटिव बनने के लिए। ऐसा इसलिए क्योंकि हर तरह से खुद को unbios रखकर आप अपने मन में ideas और इन्फॉर्मेशन के एक फ्री फ्लो को प्रमोट करते हो, जिससे डीप इनसाइट्स और नॉलेज आपके subconscious और unconscious माइंड से निकलकर आपके concious mind तक ईजिली पहुंच पाते हैं।

जबकि जो लोग close minded होते हैं और एक extreme idea को एक्सेप्ट करके बाकी हर आइडिया को रिजेक्ट कर देते हैं वो लोग अपने concious और unconscious mind के बीच के पुल को तोड़ देते हैं और दुनिया को सिर्फ अपनी आधी अंडरस्टैंडिंग से समझने  की कोशिश करते हैं।

Half knowledge is always dangerous इसलिए इंटेलिजेंट बनने के लिए खुद के मन पर किसी भी तरह की रोक मत लगाओ और अपनी सोच के दायरे को असीम दूरियों तक फैलने दो।

 

2.  Use the power of nonsense

हमारा दिमाग हर चीज का सेंस बनाना चाहता है। उसे सेंस इतनी पसंद है कि अगर हम उसको परपसली नॉनसेंस इन्फॉर्मेशन दें तो वह उसमें और ज्यादा argency के साथ सच ढूंढ़ने ने लगता है।

यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया की एक स्टडी में स्टूडेंट्स की लर्निंग को इम्प्रूव करने के लिए उन्हें दो ग्रुप्स में बांटा गया और एक ग्रुप को एक्चुअल टास्क करने से पहले kafka पढ़ने को बुलाया और दूसरे ग्रुप को बस कोई नॉर्मल सा novel दिया गया और आप में से जितने भी लोगों ने   Franz kafka के नोट्स को पड़ा है, उन्हें पता होगा कि वह कितने वियर्ड और कन्फ्यूजिंग होते हैं और इतने सारे ट्विस्ट्स की वजह से वो usally कोई  सेंस नहीं बनाते हैं।

novels पड़ने के बाद दोनों ग्रुप्स को एक पैटर्न रिकग्निशन टास्क दिया गया, जिसमें जिन लोगों ने नॉन सेंसिबल काफ्का स्टोरीज पढ़ी थी। उन्होंने उन लोगों से अच्छा परफॉर्म किया जिन्होंने स्ट्रेट फॉरवर्ड कहानियां पढ़ी थीं।

यहा तक की  जेन बुद्धिज्म में भी रेगुलरली पहेलियों और कन्फ्यूजिंग स्टोरीज का इस्तेमाल किया जाता है लोगों की क्रिटिकल थिंकिंग कोई इंप्रूव करने और उनके करंट बिलीफ को नष्ट करने के लिए। उदाहरण के तौर पर जेन बुद्धिज्म में कई छोटी छोटी कहावतें हैं जैसे

  • एक monk को बोला गया कि वह अपना सब छोड़ दे तो उसने जवाब दिया कि मेरे पास तो कुछ है ही नहीं । तब उसके मास्टर ने बोला कि जो नहीं है उसे भी छोड़ दे
  • अगर तुमने सड़क पर चलते हुए बुद्धा मिल जाए तो उन्हें मार देना।
  • फिर बिना सच्चाई और बुराई का सोचे मुझे अपना वह असली चेहरा दिखाओ जो तुम्हारे माता पिता के पैदा होने से पहले था।

यानी अगर एक तरह से देखा जाए तो नोन सेंस की गहराई में ही सबसे उच्च स्तर की सेंस छुपी होती है।

3. Consume books slightly above your leval of understanding

ये इंटेलिजेंट बनने का एक और बहुत जरूरी तरीका होता है क्योंकि मुश्किल बुक्स को रीड करना मन के लिए एक एक्सरसाइज की तरह होता है इसे मसल बिल्डिंग की तरह देखो कि अगर आपने बहुत लाइट वेट उठाया यानी बहुत सिंपल बुक रीडिंग भरी तो आपकी कोई मेंटल मसल डेवलप नहीं होगी और  अगर आप एकदम से ही हार्ड डस्ट बुक्स की तरफ चले गए तब भी आपके ऊपर लोड इतना ज्यादा होगा कि आपकी ग्रोथ के नहीं बल्कि एग्जीक्यूशन के चांसेस ज्यादा होंगे। इसलिए अपने करंट लेवल ऑफ अंडरस्टैंडिंग से बिल्कुल जरा सी ऊपर की बुक्स को चुनें।

 वो क्या चीजें होती हैं जो एक बुक को डिफिकल्ट या फिर चैलेंजिंग बनाती हैं।

ऐसी दो चीजें होती हैं।

1. Novelty

2. Abstract ideas

यानी या तो एक बुक का सब्जेक्ट मैटर उसकी लैंग्वेज उसमें मौजूद आइडियास और उसमें इस्तेमाल करे शब्द आपके लिए काफी नए होते हैं और यह  क्लियरिटी आपको unknown प्रॉब्लम से डील करने की ट्रेनिंग देती है या फिर उस बुक में मौजूद आइडियाज आपकी पांच सेन्सेस की अंडरस्टैंडिंग के परे होते हैं।

जैसे जब Friedrich Neichz अपनी बुक Thus spoke zarathusra में इंटेलेक्चुअल्स का मज़ाक उड़ाते ओर उनकी बुराई करते बोलते हैं कि मेरी आत्मा उनकी टेबल पर भूखी बैठी रही, लेकिन उसे वहां पर कुछ खाने को नहीं मिला। मैं वह नहीं हूं जो ज्ञान को तोड़ता और उसे टुकड़ों में बांटता और  जिसतरह से एक अखरोट को तोड़ा और टुकड़ों में बांटा जाता है। मैं यहां गर्मी से बेहाल हूं, लेकिन वो छांव की ठंड में बैठते हैं। वह बस दूर से हर चीज के दर्शक बने रहना चाहते हैं। जब भी वह खुद को wise दिखाने की कोशिश करते हैं, तब उनकी हर बात मुझे कपकपी से भर देती है। उनकी wishdom ऐसी स्मेल करती है जिससे वह सीधा गटर से निकली हो।

अब यहां पर आपको एब्सट्रैक्ट कॉन्सेप्ट्स के थ्रू सिंपली ये समझाने की कोशिश की जाती है कि सिर्फ शार्प इंटेलेक्ट आपको अपनी गहराईयों तक नहीं पहुंचा सकता और किस तरह से ज्यादातर इंटेलेक्चुअल लोग बस wise होने की एक्टिंग करते हैं। इसलिए चाहे कम बुक्स रीड करो, लेकिन चैलेंजिंग इंटरेस्टिंग और को एक्सपेंड करने वाली बुक्स को रीड करो। ताकि इस तरह से आप के मन की excercise हो आपको तेज सोचने वाले tool मिले ओर आप इंटेलिजेंट बने।

टो दोस्तों यहा था हमारा article इंटेलीजेंट कैसे बने( How to become intelligent) हमे उम्मीद है यहा आपको पसंद आया होगा,comment मे हमे अपने विचार जरूर बताइये

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Leave a Reply

Your email address will not be published.